प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी: Pratham Panchvarshiya Yojana Ki Avadhi Kya Thi

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी: Pratham Panchvarshiya Yojana Ki Avadhi Kya Thi

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी: Pratham Panchvarshiya Yojana Ki Avadhi Kya Thi -: देश के लोगों के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए केंद्र सरकार द्वारा हर 5 वर्ष में पंचवर्षीय योजना की शुरुआत की जाती है। भारत सरकार अपनी ओर से दस्तावेज तैयार करती है, जिसमें अगले 5 वर्षों के लिए उसकी आमदनी और खर्च की योजना बनाई जाती है। भारत में पहली पंचवर्षीय योजना की शुरुआत 1951 में हुई थी। भारतीय अर्थव्यवस्था का मॉडल वर्ष 1951 से 2017 तक पंचवर्षीय योजनाओं पर आधारित नियोजन की अवधारणा पर आधारित था। जिसका मुख्य लक्ष्य औद्योगिक विकास, अर्थव्यवस्था को गतिशील बनाना, कृषि विकास को बढ़ावा देना और उन लोगों को आत्मनिर्भर, सशक्त और मजबूत बनाना साथ ही नए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना आदि। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से भारत की प्रथम पंचवर्षीय योजनाओं से संबंधित जानकारी प्रदान करेंगे।

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी: Pratham Panchvarshiya Yojana Ki Avadhi Kya Thi
प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी: Pratham Panchvarshiya Yojana Ki Avadhi Kya Thi

पंचवर्षीय योजना क्या है?

भारत सरकार ने अपने अर्थव्यवस्था के निर्माण और विकास को प्राप्त करने के लिए स्वतंत्रता के बाद पंचवर्षीय योजनाओं की एक श्रृंखला शुरू की है, जो कि भारत की राष्ट्रीय योजना है। इन पंचवर्षीय योजना से लोगों को विभिन्न लाभ और सुविधाएं प्राप्त हुई है, जो की काफी हद तक सफल साबित हुई है। जिससे देश में रहने वाले नागरिकों को आत्मनिर्भर बनाया गया है और देश में संचालित हो रही योजनाओं से अवगत कराया गया है। इन योजनाओं को पहले योजना आयोग संभालता था लेकिन अब इसका कार्यभार नीति आयोग द्वारा संभाल जाएगा।

नीति आयोग की स्थापना 1 जनवरी 2015 को की गई थी। वह राज्य की ओर से कोई फैसला नहीं ले सकता। यह केवल सलाहकार संस्था के रूप में काम करेगा और भविष्य में लोगों के हित के लिए दिशा निर्देशों को तय करेगा। भारत में अब तक 12 पंचवर्षीय योजना लॉन्च की जा चुकी है। 12वीं पंचवर्षीय योजना के माध्यम से देश में कृषि विकास, रोजगार के लिए अवसर प्रदान करना और उत्पादकता को बढ़ावा देने के लिए मानव एवं भौतिक संसाधनों द्वारा कई सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी।

प्रथम पंचवर्षीय योजना

देश में पहली पंचवर्षीय योजना भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के समय में शुरू की गई। इसे प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भारतीय संसद में 1951 में प्रस्तुत किया था। प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि 1951 से 1956 तक की थी, जो आजादी के बाद सभी नागरिकों के लिए खुशी की लहर लेकर आने वाली थी। प्रथम पंचवर्षीय योजना हैरोड डोमर मॉडल पर आधारित थी। जिसमें बचत बढ़ाने पर अधिक जोर दिया गया। इसमें मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया गया। जिसमें बांधों और सिंचाई में निवेश को शामिल किया गया था। भाखड़ा नांगल बांध के लिए सरकार द्वारा भारी आवंदन किया गया था।

यह योजना सबसे सफल साबित हुई थी क्योंकि देश की आजादी के बाद इसकी शुरुआत की गई थी जो देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण थी। इस योजना का लक्ष्य सरकार द्वारा 2.5% रखा गया था, जबकि इसकी वृद्धि दर 3.6% हासिल हुई थी।

प्रथम पंचवर्षीय योजना के लाभ

प्रथम पंचवर्षीय योजना भारत में 1951 से 1956 तक लागू की गई थी और इसके कई लाभ थे। इस योजना के मुख्य उद्देश्य थे गरीबी की उन्मूलन, अर्थव्यवस्था की स्थायीता और विभाजन के सामान्य को बढ़ावा देना। इसके कुछ महत्वपूर्ण लाभ निम्नलिखित है :

  • प्रथम पंचवर्षीय योजना ने उत्पादन के क्षेत्र में वृद्धि को प्रोत्साहित किया, खास तौर पर कृषि उद्योग और उद्यमिता के क्षेत्र में।
  • इस योजना के तहत नए रोजगार की स्थापना की गई, जिससे बेरोजगारी की स्थिति में सुधार हुआ।
  • इसका लक्ष्य समाज के विभिन्न वर्गों को सशक्त बनाना था, विशेष रूप से गरीब और पिछड़े वर्गों को अधिक लाभान्वित करने के माध्यम से।
  • यह योजना ने अनुपातिक विकास को बढ़ावा दिया, जिससे राष्ट्रीय संपदा के वितरण में और न्यायसंगतता में सुधार हुआ।
  • प्रथम पंचवर्षीय योजना ने आधिकारिक विकास को प्रोत्साहित किया, जैसे की शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाएं और ग्रामीण विकास।
  • इस योजना ने भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और देश के सामाजिक आर्थिक स्थिति में सुधार किया।

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी?

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रारंभ में 5 वर्षों के लिए निर्धारित की गई थी। यह योजना 1 अप्रैल 1951 से 31 मार्च 1956 तक चली। इसका मुख्य उद्देश्य था भारतीय अर्थव्यवस्था को स्वतंत्र रूप से स्थाई करना, गरीबी को कम करना और अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों में समान विकास सुनिश्चित करना।

भारत में टोटल 12 पंचवर्षीय योजना लागू की गई है। भारत में मोदी सरकार ने पंचवर्षीय योजना वर्ष 2017 से बनाना बंद कर दिया है। 12वीं पंचवर्षीय योजना भारत की अंतिम पंचवर्षीय योजना है। भारत सरकार द्वारा 13वीं पंचवर्षीय योजना नहीं बनाई जाएगी। सरकार ने भले ही इन पंचवर्षीय योजनाओं को बनाना बंद कर दिया है, लेकिन इन पंचवर्षीय योजनाओं का योगदान भारत के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण कदम है।

यह भी पढ़े :

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि क्या थी?

प्रथम पंचवर्षीय योजना की अवधि सन 1951 से सन 1956 तक थी। यह अवधि उस वक्त 5 साल के लिए थी।

प्रथम पंचवर्षीय योजना के जनक कौन थे?

प्रथम पंचवर्षीय योजना 1951 में शुरू की गई थी। भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू इन पंचवर्षीय योजनाओं के जनक थे।

Leave a Comment