बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में कितना पैसा मिलता है: Beti Bachao Beti Padhao Yojana Kab Shuru Hui

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में कितना पैसा मिलता है: Beti Bachao Beti Padhao Yojana Kab Shuru Hui

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में कितना पैसा मिलता है: Beti Bachao Beti Padhao Yojana Kab Shuru Hui -: बेटियों के फ्यूचर को अच्छा बनाने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाई जाती है। इन योजनाओं के माध्यम से बेटियों की सुरक्षा की जाती है, साथ-साथ उन्हें सामाजिक एवं आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाती है। केंद्र सरकार ने 2015 में ऐसी ही एक योजना को शुरू किया था। आइये जानते हैं इस योजना के बारे में।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में कितना पैसा मिलता है: Beti Bachao Beti Padhao Yojana Kab Shuru Hui
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ में कितना पैसा मिलता है: Beti Bachao Beti Padhao Yojana Kab Shuru Hui

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना क्या है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है, जिसका उद्देश्य लड़कियों के प्रति जागरूकता और सकारात्मक दृष्टिकोण को बढ़ावा देना, लड़कियों की शिक्षा स्वास्थ्य और सुरक्षा में सुधार करना और महिला सशक्तिकरण को प्राप्त करना है। यह योजना 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरियाणा के पानीपत में शुरू की गई थी। यह योजना महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से कार्यान्वित की जा रही है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना ने लड़कियों और महिलाओं के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस योजना के परिणाम स्वरुप लड़कियों के जन्म दर में वृद्धि हुई है, लड़कियों की शिक्षा दर में सुधार हुआ है और महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक भागीदारी में भी वृद्धि हुई है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना कब शुरू हुई?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना साल 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरू की थी। इस योजना के तहत लड़कियों की शिक्षा पर जोर देना था, साथ ही लिंगानुपात में वृद्धि करना भी एक बड़ी वजह था। भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में पहले जहां लड़कियों को पढ़ने के लिए स्कूल नहीं भेजा जाता था, लेकिन इस योजना के आने के बाद इस आंकड़े में काफी वृद्धि आई है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत बेटी का खाता खुलवाने के बाद अभिभावक को बेटी के 14 साल पूरे होने तक तय धनराशि उसके खाते में जमा करवानी होती है। अभिभावक चाहे तो हर महीने ₹1000 या फिर साल में एक साथ ही ₹12000 जमा कर सकते हैं। 14 साल पूरे होने के बाद बेटी के खाते में कुल 1,68,000 रुपए की राशि जमा हो जाएगी। इसके बाद जब बेटी 21 साल की हो जाएगी तब उसे कुल 6,07,128 रुपए दिए जाएंगे। वह चाहे तो खाते से पूरे पैसे एक साथ निकल कर अपनी उच्च शिक्षा को जारी रखने के लिए खर्च कर सकती है या फिर विवाह के लिए इस्तेमाल कर सकती है।

इस योजना का क्या उद्देश्य है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना को चाइल्ड सेक्स रेश्यो में कमी को रोकने के लिए शुरू किया गया था। इसके अंतर्गत महिलाओं के एंपावरमेंट से जुड़े मुद्दों को भी हल किया जाता है। इस योजना के माध्यम से न केवल बेटियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाती है, बल्कि बेटियों को हायर एजुकेशन के लिए भी प्रोत्साहित किया जाता है। इस योजना का उद्देश्य बेटी के माता-पिता को बेटियों को हायर एजुकेशन के लिए प्रोत्साहित करना भी है। यह योजना बालिकाओं की सुरक्षा और शिक्षा को सुनिश्चित करती है। यह योजना बेटी और बेटे के बीच समानता स्थापित करने में भी कारगर साबित हुई है।

इस योजना के क्या लाभ है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के कई लाभ है। यह अभियान भारत में बेटियों के जीवन को समृद्ध बनाने का उद्देश्य रखता है और उन्हें न केवल शिक्षा के अधिकार के साथ जीने का मौका देता है, बल्कि समाज में उनकी गरिमा को भी बढ़ाता है। इस योजना के कुछ मुख्य लाभ निम्नलिखित है :

  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के माध्यम से लड़कियों को शिक्षा का अधिकार स्थापित किया जाता है। शिक्षा उनकी सोच और उनके जीवन के विकास के लिए आवश्यक होती है।
  • इस अभियान के माध्यम से लड़कियों के लिए लिंगीय समानता को प्रोत्साहित किया जाता है। यह लड़कियों को समाज में सम्मानित बनाने में मदद करता है और समाज में उनकी स्थिति को सुधारता है।
  • बेटियों की शिक्षा से उन्हें जनसंख्या नियंत्रण के महत्व के बारे में जागरूकता मिलती है। शिक्षित बेटियां अक्सर अपने परिवार या समाज में जनसंख्या नियंत्रण की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार होती है।
  • लोगों में बेटियों को बोझ समझने के बजाय उन्हें परिवार की महत्वपूर्ण सदस्य और देश की संपत्ति के रूप में स्वीकार करने की प्रेरणा बड़ी है।
  • योजना के तहत चलाए गए विभिन्न जागरूकता अभियानों ने लोगों को लड़कियों की शिक्षा और उनके विकास के महत्व को समझने में मदद भी की है।
  • इस योजना के तहत सरकार द्वारा लड़कियों की शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए कई वित्तीय और गैर वित्तीय लाभ प्रदान किए जाते हैं। इसके परिणाम स्वरुप पहले की तुलना में अब अधिक लड़कियां स्कूल जा रही है और उच्च शिक्षा प्राप्त कर रही है।
आधिकारिक वेबसाइटबेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

इस योजना के लिए पात्रता क्या है?

  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक के पास कुछ पत्रताएं होना जरूरी है।
  • इस योजना के तहत एक परिवार की दो लड़कियां ही आवेदन के लिए पात्र होगी इससे ज्यादा नहीं।
  • परिवार में जो लड़की है उसकी उम्र 10 साल से कम होनी जरूरी है।
  • इसके साथ ही परिवार में लड़की के नाम सुकन्या समृद्धि खाता जिसे एसएससी कहा जाता है होना अनिवार्य है, जो किसी भी बैंक में खुलवाया जा सकता है।
  • आवेदन देने के लिए सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज होने आवश्यक है जैसे आधार कार्ड राशन कार्ड आदि।
  • अंत में इस योजना का लाभ लेने के लिए भारतीय नागरिक होना बेहद जरूरी है।

इस योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या है?

  • लाभार्थी कन्या का जन्म प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • स्थाई निवास प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • अभिभावक का आधार कार्ड
  • पहचान प्रमाण पत्र

इस योजना के लिए आवेदन फॉर्म कैसे भरें?

जो भी इच्छुक उम्मीदवार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एप्लीकेशन फॉर्म भरना चाहते हैं, वह नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • इस योजना का आवेदन फॉर्म भरने के लिए लाभार्थी को सबसे पहले अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस या बैंक में जाना होगा।
  • बैंक या पोस्ट ऑफिस से योजना से संबंधित आवेदन फार्म को कलेक्ट करें आवेदन फार्म में पूछी गई सभी जानकारी को ध्यान से पढ़कर जानकारी को दर्ज करें।
  • सभी डिटेल्स भरने के बाद आवेदन पत्र के साथ मांगे गए सभी दस्तावेजों की स्कैन कॉपी को फॉर्म के साथ अटैच करें और आवेदन फार्म को बैंक में जमा कर दे।
  • आवेदन फार्म को जमा करने के बाद बैंक से आपको बैंक पासबुक प्राप्त होगी।
  • इस तरह से इस योजना से संबंधित प्रक्रिया आपकी पूर्ण हो जाएगी।
आधिकारिक वेबसाइटwcd.nic.in

इस योजना में कितना पैसा मिलता है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना में मिलने वाली धनराशि विभिन्न योजनाओं और लाभों के अनुसार भिन्न होती है।

सुकन्या समृद्धि योजना :

  • इस योजना में सरकार लड़की के नाम पर ₹6000 की प्रारंभिक जमा राशि जमा करती है।
  • जमा राशि पर 7.6 परसेंट की वार्षिक ब्याज दर प्राप्त होती है।
  • 15 साल की अवधि के बाद परिपक्वता पर कर मुक्त राशि प्राप्त होती है।

उड़ान योजना :

  • इस योजना के तहत बीपीएल परिवारों से दसवीं कक्षा उत्तीर्ण लड़कियों को उच्च शिक्षा के लिए वार्षिक ₹12000 की छात्रवृत्ति मिलती है।
  • छात्रवृत्ति के साथ ₹1000 प्रति माह का भोजन भत्ता भी दिया जाता है।
  • इसके अतिरिक्त 2 साल के लिए ₹100000 का स्वास्थ्य बीमा भी प्रदान किया जाता है।

यह भी पढ़े :

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का क्या लाभ है?

इस योजना के माध्यम से न केवल बेटियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाती है बल्कि बेटियों को हायर एजुकेशन के लिए भी प्रोत्साहित किया जाता है। इसका उद्देश्य बेटी के माता-पिता को बेटियों को हायर एजुकेशन के लिए प्रोत्साहित करना भी है। यह योजना बालिकाओं की सुरक्षा और शिक्षा को सुनिश्चित करती है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का लक्ष्य क्या है?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का लक्ष्य समाज में बेटियों के लिए सुरक्षा को सुनिश्चित करना, बेटियों पर होने वाले सभी अत्याचारों को नियंत्रित करना और नारी सशक्तिकरण को बढ़ावा देना है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की घोषणा कब की गई थी?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत 22 जनवरी सन 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शुरू की गई थी।

Leave a Comment